Monday, 30 March 2015

Epilepsy


मिर्गी (Epilepsy) चिंता क्यों 
 "होम्योपैथी है समाधान"
मिर्गी (प्राचीन ग्रीक शब्द से लिया गया जिसका अर्थ "दबोचना, काबू करना या पीड़ित करना" है) लंबे समय से चलने वाला तंत्रिका संबंधी विकार का एक समूह है जिसकी पहचान मिर्गी के दौरे से की जाती है। ये दौरे वे घटनाएँ हैं जो कि लगातार कंपन की संक्षिप्त और लगभग पता न लगा पाने वाली घटनाओं से काफी लंबी अवधि तक हो सकती हैं। मिर्गी में, दौरे बार-बार पड़ते हैं और उनका कोई तत्काल अंतर्निहित कारण नहीं होता जबकि ऐसे दौरे जो किसी एक विशेष कारण से होते हैं उन्हें मिर्गी का प्रतीक होना नहीं माना जाता है।
ज्यादातर मामलों में कारण इसके कारण अज्ञात हैं, तथापि कुछ लोगों में मस्तिष्क की चोट, स्ट्रोक, मस्तिष्क कैंसर, और नशीली दवाओं और शराब के दुरुपयोग और अन्य कारणों के परिणामस्वरूप मिर्गी विकसित होती है। मिर्गी के दौरे अत्यधिक और असामान्य कॉर्टिकल मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिका गतिविधि का परिणाम हैं। निदान में आम तौर पर अन्य स्थितियों को निकाल देना शामिल होता है जो कि इसी तरह के लक्षणों का कारण बन सकती हैं (जैसे कि सिंकोप) और साथ ही साथ पता लगाना कि, क्या कोई तत्काल कारण मौजूद हैं। मिर्गी की पुष्टि अक्सर एक इलैक्ट्रोएनस्फैलोग्राम के साथ की जा सकती है। 
आधुनिक चिकित्सा के अनुसार मिर्गी को ठीक नहीं किया जा सकता लेकिन दवाई के साथ लगभग 70% मामलों में दौरों पर नियंत्रण पाया जा सकता है तथा  उन लोगों में, जिनके दौरों पर दवाई का कोई असर नहीं होता हैशल्यक्रियान्यूरोस्टीम्यूलेशन या आहार में बदलावों पर विचार किया जा सकता है; परन्तु होम्योपैथिक चिकित्सा में मिर्गी का पूर्णरूपेण इलाज संभव है। 
दुनिया भर के लगभग 1% लोगों (65 मिलियन) को मिर्गी रोग हैजिसमें लगभग 80% मामले विकासशील देशों में होते हैं। विकसित दुनिया में, नए मामलों की शुरुआत शिशुओं और बुजुर्गों में सबसे अधिक पाई जाती है; जब कि विकासशील देशों में अंतर्निहित कारणों की आवृत्ति में अंतर होने के कारणयह बड़े बच्चों और युवा बालिगों में पाया जाता है। सभी लोगों में से लगभग 5–10% को 80 साल की उम्र तक एक अकारणीय दौरा पड़ सकता हैऔर एक दूसरे दौरे का सामना करने की संभावना 40 और 50% के बीच होती है।
संकेत और लक्षण-
दौरों की सबसे सामान्य किस्म (60%) ऐंठन वाली होती है। इनमें से दो तिहाई केन्द्रीय दौरे  की तरह शुरु होते हैंबाकी के 40% दौरे गैर-ऐंठन वाले होते हैं। इस प्रकार का एक उदाहरण बेसुध दौरा होता है, जो चेतना के एक घटे हुए स्तर को प्रस्तुत करता है और आम तौर पर लगभग 10 सेकंडों के लिए रहता है। 
फोकल सीज़र्स- यह दौरे अक्सर ऑरा {संवेदी (दृश्यमान, सुनना या गंध), मानसिक, स्वायत्त, या मोटर अद्भुत घटना} के साथ पाये जाते हैं । कुछ दौरों में मरोड़ की गतिविधि एक विशिष्ट मांसपेशी समूह में शुरु हो सकती है और आस-पास के मांसपेशी समूहों में फैल सकती है उसे एक जैकसोनियन मार्च के नाम से जाना जाता है। 
सामान्यता दौरों की छह मुख्य किस्में हैं: टॉनिक-क्लोनिक, टॉनिकक्लॉनिकमायोक्लॉनिक, एबसेन्स, और एटॉनिक दौरे। इन सभी में होश खो बैठना शामिल है और आम तौर पर ये बिना किसी चेतावनी के होते हैं। 
टॉनिक-क्लॉनिक दौरे अंगों के एक संकुचन के साथ मौजूद होते हैं जिनके बाद कमर के ढीले होने के साथ उनका विस्तार होता है जो लगभग 10-30 सेकेंड तक रहता है (टॉनिक चरण) छाती की मांसपेशियों के संकुचन की वजह से एक कराहने अथवा रोने (Moaning) की आवाज सुनी जा सकती है। इसके बाद एक साथ अंगों का कंपन होता है (क्लॉनिक चरण) 
टॉनिक दौरे में मांसपेशियों के निरंतर होते हैं और व्यक्ति अक्सर नीला पड़ जाता है क्योंकि उसकी श्वास लगभग बंद (Asphyxia) सी हो जाती हैं। 
क्लॉनिक दौरे में अंगों में एक साथ कंपन होता है और कंपन के रुक जाने के बाद व्यक्ति को सामान्य होने में 10-30 मिनट तक का समय लग सकता है; यह अवधि पोस्ट-इक्टल चरणकहलाती है। दौरा पड़ने के दौरान आंत्र या मूत्राशय पर नियंत्रण की कमी हो सकती है। दौरा पड़ने के दौरान जीभ सिरे से या किनारों से कट जाती है। टॉनिक-क्लॉनिक दौरे में जीभ का किनारों से कट जाना प्रायः पाया जाता है। साइकोजैनिक गैर-मिर्गी वाले दौरों में जीभ का कट जाना अपेक्षाकृत अनुपस्थित होता है।
मायोटॉनिक दौरों में कुछ क्षेत्रों में या पूरे शरीर में मांसपेशियों में ऐंठन होना शामिल होता है। 
एबसेंस दौरे केवल सिर के हल्के से मुड़ने या आंख के झपकने जितने हल्के हो सकते हैं इसे पार्शियल सीज़र्स कहते हैं  इसमें व्यक्ति गिरता अथवा बेसुध नहीं होता है और इसके खत्म होने के एकदम बाद पर सामान्य हो जाता है।
एटॉनिक दौरे में एक सेकेंड से अधिक मांसपेशी की गतिविधि का न होना शामिल होता है। यह आमतौर पर शरीर के दोनों ओर होता है (Bilateral)
रीफ्लैक्स मिर्गी से प्रभावित लोगों को ऐसे दौरे पड़ते हैं जो विशिष्ट उत्तेजनाओं के कारण शुरु होते हैं। आम शुरुआती कारणों में चमकती हुई लाइटें और अचानक शोर शामिल हैं। कुछ किस्म की मिर्गी में, दौरे अक्सर नींद के दौरान पड़ते हैं और अन्य किस्मों में वे लगभग हमेशा सोते समय ही पड़ते हैं।
पोस्ट-इक्टल फेज़-
एक दौरे के सक्रिय भाग के बादचेतना के सामान्य स्तर तक वापस आने से पहले आम तौर पर मरीज को भम्र की स्थिति होती है जिसे पोस्ट-इक्टल फेज़ (अवधि) के तौर पर जाना जाता है।यह स्थिति लगभग 3 से 15 मिनट चलती हैलेकिन कभी-घंटों तक रह सकती है। अन्य आम लक्षणों में थकान महसूस होनासिरदर्द, बोलने में कठिनाई, और असामान्य व्यवहार शामिल है। एक दौरा पड़ने के बाद साइकोसिस अपेक्षाकृत सामान्य होती है, जो 6-10% लोगों को होता है। अक्सर लोगों को याद नहीं रहता कि इस समय के दौरान क्या हुआ था। एक फोकल दौरा पड़ने के बाद, स्थानीयकृत कमजोरी, जिसे टोड का लकवा (Todd's palsy) के तौर पर जाना जाता है, हो सकती है। जब ऐसा होता है तो यह आम तौर पर कुछ सेकेंडों से मिनटों तक रहती है पर यह कभी-कभी एक से दो दिन तक भी रह सकती है।
मनोसामाजिक- 
मिर्गी का सामाजिक और मनोवैज्ञानिक कल्याण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। इन प्रभावों में सामाजिक अलगाव, दोषारोपण, या विकलांगता शामिल हो सकते हैं। कुछ विकार मिर्गी से प्रभावित लोगों में अक्सर होते हैं, जो आंशिक रूप से मौजूदा मिर्गी रोग पर निर्भर होते हैं। इनमें शामिल हैं: अवसादचिंता विकार, और माइग्रेन। ध्यान में कमी, सक्रियता विकार आम जनता में सामान्य बच्चों की तुलना में मिर्गी से प्रभावित बच्चों को तीन से पांच गुना अधिक प्रभावित करता है। ADHD और मिर्गी जैसे रोग एक बच्चे के व्यवहार, शिक्षा, और सामाजिक विकास पर महत्वपूर्ण असर छोड़ते हैं। ऑटिस्म वाले लोगों में भी मिर्गी का होना आम बात है।
कारण- 
मिर्गी मात्र एक बीमारी नहीं है बल्कि यह एक लक्षण है, जो विभिन्न विकारों का परिणाम हो सकती है। परिभाषा के अनुसार दौरा अचानक और किसी गंभीर रोग जैसे किसी तात्कालिक कारण के बिना होता है। मिर्गी का अंतःनिहित कारण आनुवांशिक, संरचनात्मक अथवा उपापचयी समस्याओं के रूप में पहचाना जा सकता है लेकिन 60% मामलों के कारण अज्ञात होते हैं। आनुवांशिकजन्मजात और विकास संबंधी परिस्थितियां युवाओं के बीच अधिक आम हैं, जबकि मस्तिष्क ट्यूमर और दौरे अधिक उम्र के लोगों के बीच। अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के परिणामस्वरूप भी दौरे पड़ सकते हैंयदि वे किसी विशिष्ट कारण से सीधा सम्बन्ध रखते हैं; जैसे दौरे, सिर की चोट, विषाक्त अंतर्ग्रहण या चपापचयी समस्या तो उनको गंभीर लक्षणात्मक दौरे कहा जाता है और उनको विस्तृत वर्गीकरण में रखा जाता है न कि केवल मिर्गी में। गंभीर लक्षणात्मक दौरों के बहुत से कारक  बाद वाले दौरों का कारण बन सकते हैं ऐसी स्थिति में इसे द्वितीयक मिर्गी कहा जाता है।
आनुवांशिक-
आनुवांशिकी को अधिकांश मामलों में शामिल पाया गया है, फिर वह चाहे प्रत्यक्ष हो या अप्रत्यक्ष। कुछ मिर्गी के रोग एकल जीन विकार के कारण होते हैं(1-2%);अधिकांश एकाधिक जीन तथा वातावरणीय कारकों के कारण होते हैं। शामिल जीन में से कुछ आयन चैनलएन्ज़ाइम, GABA तथा जी प्रोटीन- युग्मित रिसेप्टर को प्रभावित करते हैं। समान जुड़वों में से यदि एक प्रभावित है तो इस बात की 50-60% संभावना है कि दूसरा भी प्रभावित होगा। असमान जुड़वों में ऐसा जोखिम घटकर 15% है। आम जनसंख्या की तुलना में मिर्गी से पीड़ित व्यक्ति के नजदीकी संबंधियों में यह जोखिम पाँच गुना तक बढ़ जाता है। डाउन सिंड्रोम वालो में से 1 से 10% और एंजलमैन सिड्रोम वालों में से 90% लोगों को मिर्गी होती है।
द्वितीयक-
मिर्गी दूसरी कई परिस्थितियों के परिणामस्वरूप हो सकती है जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं: ट्यूमरदौरे, सिर की चोट, पूर्व में हुए केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र के संक्रमण, वंशानुगत असमान्यताएं तथा जन्म के समय मस्तिष्क क्षति के परिणामस्वरूप। मस्तिष्क में होने वाले ट्यूमर से प्रभावित हुए लोगों में से लगभग 30% को मिर्गी होती है जो कि कुल मामलों का लगभग 4% होता है। टेम्पोरल लोब में जिन लोगों को ट्यूमर होता है उनमें जोखिम सबसे अधिक होता है। अन्य आम जन्मजात विकृतियों में जैसे कि सेरेब्रल कैवरनस मैलफॉर्मोशन्सऔर आर्टियोवेनस मैलफॉर्मेशन्स में जोखिम 40 से 60% तक होता है। मिर्गी के 6 से 20% मामले सिर की चोटों के कारण होते हैं। दिमाग पर हल्की चोट जोखिम को दोगुना कर देती है जबकि दिमाग पर गंभीर चोट जोखिम को सात गुना तक बढ़ा देती है। वे जिनको उच्च क्षमता वाली बंदूक की गोलियों (Gun shot wound)  से चोट पहुँची हो उनमें यह जोखिम लगभग 50% तक बढ़ जाता है। मस्तिष्क ज्वर के कारण मिर्गी होने का जोखिम 10% से कम होता है; यह रोग संक्रमण के दौरान आम तौर पर दौरे पैदा करती है। हरपीस सिम्पलेक्स इन्सेफलाइटिस में दौरे का जोखिम लगभग 50% तक होता है जिसके बाद मिर्गी होने का उच्च जोखिम होता है (25% तक) पोर्क टेपवर्म से संक्रमण के चलते न्यूरोसिस्टोसरकोसिस हो सकता है जो कि उन जगहों पर आधे मिर्गी के दौरों के लिए आम है जहाँ पर इस परजीवी की उपस्थिति आम है।  सेरेब्रल मलेरियाटोक्सोप्लासमोसिस और टोक्सोक्लैरिएसिसजैसे संक्रमणों के बाद भी मिर्गी हो सकती है। अत्यधिक अल्कोहल के इस्तेमाल से भी मिर्गी का जोखिम बढ़ता है: वो लोग जो इकाई अल्कोहल प्रतिदिन लेते हैं उनमें जोखिम ढ़ाई गुना तक बढ़ जाता है। अन्य जोखिमों में अल्ज़ाइमर रोगमल्टिपल स्क्लेरोसिसट्यूबेरस स्क्लेरोसिस और ऑटोइम्यून इन्सेफिलाइटिस जैसे रोग शामिल है।
मिर्गी के किसी मामले को किसी विशेष सिंड्रोम में वर्गीकृत करने की जरुरत अक्सर बच्चों में होती है जिन्हे गलती वश मिर्गी का नाम दे दिया जाता है  कुछ प्रकारों में निम्नलिखित शामिल है: बिनाइन रोलैन्डिक इपिलेप्सी (2.8 प्रति 1,00,000), चाइल्डहुड एबसेन्स इपिलेप्सी (0.8 प्रति 1,00,000) और जुवैनाइल मायोक्लॉनिक इपिलेप्सी (0.7 प्रति 1,00,000) फेब्राइल दौरे और बिनाइन नियोनेटल दौरे मिर्गी के प्रकार नहीं हैं।
पैथोलॉजी-
मिर्गी के दौरों में, मस्तिष्क में संरचनात्मक या प्रकार्यात्मक समस्याओं के कारणन्यूरॉन्स का एक समूह असमान्य, अत्यधिकतथा अतिउत्तेजित रूप से हमला करना शुरु कर देता है जिसके परिणामस्वरूप पैरॉक्साइसमल डीपोलराइज़ेशन शिफ्ट के नाम से जाने वाली में विध्रुवण की तरंग शुरु हो जाती है।
सामान्य तौर पर उत्तेजक न्यूरॉन के हमले के बाद यह कुछ समयावधि के लिए अधिक प्रतिरोधी बन जाता है। ऐसा कुछ हद तक निरोधात्मक न्यूरॉन्स के प्रभाव के कारण, उत्तेजक न्यूरॉन के भीतर विद्युतीय बदलावों के कारण तथा एडेनोसाइन के नकारात्मक प्रभावों के कारण होता है। मिर्गी में इस अवधि के दौरान उत्तेजक न्यूरॉन्स के हमले का प्रतिरोध कम होने लगता है। यह आयन चैनलों में परिवर्तन या निरोधात्मक न्यूरॉन्स के सही तरीके से काम न करने के कारण हो सकता है। फिर इस प्रकार से इससे एक विशिष्ट क्षेत्र बनता है जिससे दौरा विकसित हो सकता है, जिसे फोकल सीज़रकहते हैं। मिर्गी की एक और क्रियाविधि, उत्तेजक परिपथों का ऊपर की ओर विनियमन या प्रतिरोधात्मक परिपथों का नीचे के ओर विनियमन हो सकता है जो कि मस्तिष्क में चोट के कारण भी हो सकता है ।ये द्वितीयक मिर्गी इपिलेप्टोजेनेसिस के नाम से जाने जाने वाली प्रक्रियाओं के माध्यम से होती है।मस्तिष्क में रक्तमस्तिष्क बाधा की विफलता भी एक कारण तंत्र है क्योंकि यह मस्तिष्क के  रक्त में तत्वों को जाने की अनुमति देती है।
फोकल दौरे एक मस्तिष्क के गोलार्द्ध में शुरु होते हैं जबकि सामान्य दौरे दोनो गोलार्द्धों में शुरु होते हैं।  कुछ प्रकार के दौरे मस्तिष्क की संरचना को बदल सकते हैं जबकि कुछ अन्य कम प्रभाव छोड़ते हैं। ग्लायोसिस  न्यूरॉन संबंधी हानि तथा मस्तिष्क के विशिष्ट क्षेत्र का अपक्षय मिर्गी से जुड़े हैं लेकिन यह अस्पष्ट है कि क्या मिर्गी ये बदलाव लाती है या इन बदलावों के कारण मिर्गी होती है लेकिन अक्सर यह देखा गया है की लम्बे समय तक मिडाज़ोलम,  बेंज़ोडाइज़ेपाइन और  फेनिटॉएन  जैसी दवाएं भी ग्लायोसिस की जिम्मेदार है। 
प्रयोगशाला परीक्षण (Investigations)-
वयस्कों के लिए, इलेक्ट्रोलाइटरक्त ग्लूकोस तथा कैल्शियम स्तर की जांच महत्वपूर्ण है जिससे कारणों के रूप में उनकी भूमिका के महत्व को नकारा जा सके। इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम दिल की धड़कन से संबंधित समस्याओं की संभावना को नकारने के लिए उपयोग किया जाता है उसी तरह एलेक्ट्रोइन्सेफलोग्राम सिर (scalp) के चारों तरफ इलेक्ट्रिक एक्टिविटी को रिकॉर्ड करता है। यह फोकल और जेनेरलाइस्ड झटको को, अथवा झटकों के खतरे (रिस्क) और उनके दुबारा होने की सम्भावना पर प्रकाश डालता है। CT Scan और MRI की उपयोगिता भी रोग के कारण और उसे निश्चित करने हेतु चिकित्सक करता है। CT एक्यूट परिस्थितियों जैसे कोई रक्तस्राव, इन्फ्राक्ट, कोई कृमि अथवा गांठ, कोई बड़ा जन्मजात मालफॉर्मेशन और MRI बच्चों और युवाओं में कोई विकासजनित मालफॉर्मेशन तथा व्यस्कों में मीसिअल टेम्पोरल स्क्लेरोसिस, छोटे ट्यूमर, कोई चोट का निर्धारण करने हेतु उपयोगी होते हैं।  केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र संक्रमण के निदान के लिए लंबर पंचर उपयोगी हो सकता है, लेकिन इसकी जरूरत नियमित तौर पर नहीं होती है।  बच्चों में अतिरिक्त परीक्षणों जैसे यूरिन बायोकेमिस्ट्री और चयापचय संबंधी विकार की उपस्थिति को देखने के लिए रक्त परीक्षण की जरूरत पड़ सकती है। दौरा पड़ने के 20 मिनट के भीतर उच्च रक्त प्रोलैक्टिन स्तर जानकारीसाइकोजेनिक गैर-मिर्गी दौरों के विपरीत, किसी मिर्गी के दौरे के पुष्टि के लिए काफी उपयोगी हो सकती है।यदि यह सामान्य हो तो भी मिर्गी का दौरा संभव है परन्तु यह इसको पूर्णतयः अन्य झटकों से पृथक्कृत नहीं करती।  

लक्षण, होम्योपैथिक चिकित्सा एवं उपचार- 
होम्योपैथिक चिकित्सा एक ऐसी विधा है जो यहाँ तक आधुनिक है कि झटके की वजह दिमाग का कौन सा हिस्सा है उसके अनुसार भी दवा का निर्धारण  किया जा सकता है। मैंने प्रयास किया है कि झटकों की उत्पत्ति स्थल के अनुरूप हमारी क्या दवाएं हो सकती हैं जो निम्नवत हैं-
फ्रंटल लॉब जनित झटके अक्सर मानसिक झटकों से मेल खाते हैं और ज्यादातर मूर्छा रहित होते हैँ। इनके लक्षणों में भावनात्मक और सेक्सुअल लक्षण ज्यादा पाये जाते है। वर्तमान में फ्रंटल लॉब से सबसे ज्यादा फोकल क्लोनिक, काम्प्लेक्स पार्शियल और सप्लीमेंटरी मोटर प्रकार झटके पाये जाते हैं। 
फोकल क्लोनिक झटके शरीर के एक भाग को बिना बेहोशी के एक लयबद्ध तरीके से आते हैं और सबसे ज्यादा हाथ और चेहरे को प्रभावित करते हैं क्यों कि यह सेरिब्रल कॉर्टेक्स के सबसे बड़े भाग को प्रदर्शित करता है। जैसे एब्सिन्थम, कार्बोनियम ऑक्सीजेनाइसेटम, कैमोमिला, सल्फर   
सप्लीमेंटरी मोटर एरिया (SMA) जनित झटके तेज प्रकृति के होते हैं जिसमे मरीज होश में रहता है और उसके शरीर का एक हिस्सा ही प्रभावित होता है। ऐसे अक्सर गर्दन और सर फैली हुई बांह की तरफ मुड़ती है जिसे "फेंसिंग पोस्चर" का भी नाम दिया जाता है। ऐसे झटके संक्षिप्त, रात के समय और एक साथ कई (in cluster) आते है। कभी-2 ऐसे झटकों में सोमैटो-सेंसरी ऑरा पाये जाते हैं। इन झटको में EEG नेगेटिव होता है। जैसे आर्टीमेसिया व्ल्गेरिस, कोल्चिकमसाइकेउटा विरोसा 
मैस्टिकेटरी सीज़र्स में अनायास मुँह चलाना, लार गिरना, जीभ निकालना और न बोल पाना (मोटर एफेसिया) जैसे लक्षण शामिल हैं। यह अक्सर फ्रंटल ऑपरक्युलम और ब्रोका एरिया से उत्पन्न होते हैं। जैसे कैलकेरिया कार्ब।
फ्रंटल लॉब एब्सेंस सीज़र्स में व्यक्ति होश में रहते हुए भी वातावरण और व्यक्तियों को प्रतिक्रिया नहीं करता है। यह ज्यादातर मीसीएल फॉन्टल और फ्रोंटोपोलर से उत्पन्न होते हैं और इन्हे अवसाद अथवा अन्य मानसिक बीमारियों से EEG द्वारा पृथक करते हैं जो अक्सर सकारात्मक होती है। जैसे आप काली ब्रोम में पाते हैं।  
सेक्सुअल ऑटोमेशन में पेल्विक थ्रेसिंग और जेनिटल मैनीपुलेशन पाया जाता है। यह अक्सर प्रीफ्रंटल कोर्टेक्स द्वारा उत्पन्न होते हैं और फ्रोंटोडॉर्सलफ्रोंटोपोलर, अथवा ओर्बिटोफ्रॉन्टल सीज़र्स के साथ पाये जाते हैं। 
यूरिनरी इंकॉन्टिनेंस और आई डेविएशन उन फ्रंटल सीज़र्स में पायी जाती है जिनमें फ्रोंटोकोर्टिकल एरिया भी प्रभावित हो। जैसे ऐथूसा साइनापियम।  
टेम्पोरल लॉब जनित झटको में सबसे ज्यादा मेसिअल टेम्पोरल लॉब जनित झटके पाये जाते हैं जो पूर्णतयाः काम्प्लेक्स पार्शियल सीज़र होते हैं; जिनमें कोई एपीगैस्ट्रिक अथवा पेट(जैसे कोई तितली का फड़फड़ाना या किसी चीज का ऊपर जाना ), या कोई गंध अथवा खुशबू (जैसे जलता रबर) जैसा कोई ऑरा मरीज महसूस करता है। जैसे बेलाडोनाबुफोएस्कुलस, सिना, हाइड्रोसायनिक एसिडओइनन्थे, रैननकुलस स्क्लेरेटस इत्यादि।   
पैराइटल लॉब जनित झटके ज्यादातर कम पाये जाते हैं जिनमें टिंगलिंग, सुन्न जैसा सोमैटो-सेंसरी ऑरा मरीज महसूस करता है जो टोनिक (यदि SMA के करीब होता है) अथवा क्लोनिक झटके (यदि प्राइमरी मोटर कॉर्टेक्स को साथ लेता है) का रूप लेता है। ये अक्सर दर्द युक्त झटको के रूप में जाने जाते हैं। जैसे प्लम्बम, सेकल कोरस्ट्रिच्नीन पुरम।   
ऑक्सिपिटल लॉब जनित झटके अक्सर विसुअल ऑरा के साथ होते हैं जिनमे विसुअल इलूसन, विसुअल हैलुसिनेशन अथवा इक्टल एमॉरोसिस (इक्टल ब्लाइंडनेस)  अथवा हेमीअनोप्सिया प्रमुख हैं जो कुछ सेकंड से लेकर मिनट तक हो सकती है। इस तरह के झटकों में तेजी से आँखे झपकना, आँखों का खिचना अथवा घूमना, सिर का घूमना, आँखे उलटना, और उलटी होने जैसे लक्षण पाये हैं। जैसे हयोसिअमस, रूटा।   
डीपर स्ट्रक्चर जैसे हाइपोथैलामस से जुड़े झटके जेलस्टिक सीज़र अथवा इक्टल लाफ्टर के रूप में जाने जाते हैं; जिनमें अनायास हंसी (बिना किसी ख़ुशी अथवा आनंद के एहसास के) के साथ टॉनिक झटके के रूप में दोनों बांहे ऊपर हो जाती हैं। यह किसी अन्तःस्रावी गड़बड़ियों, प्रेकोसियस वयस्कता में भी पाये जाते हैं। जैसे स्ट्रैमोनियम, स्ट्रिच्नीन-फोस।  
इक्टल और पोस्टइक्टल पैरालीसिस (टॉड'स पैरालीसिस)    पोस्ट इक्टेल पैरालिसिस फ्रंटल और पैराइटल सीज़र्स में ज्यादा पायी जाती है और शरीर में झटका आने के दूसरी तरफ के भाग को प्रभावित करती है। यह कुछ मिनट से लेकर फोकल स्टेटस एपिलेप्टिकस में ज्यादा देर तक पायी जाती है।  इक्टेल पैरालिसिस (हेमीपेरेसिस) पेरीरोलैंडिक एरिया से उत्पन्न झटको में पायी जाती है और क्षणिक होती है। जैसे कैनाबिस सैटिवा   
इस तरह आप देख सकते हैं कि होम्योपैथी मिर्गी और अन्य तरह के झटकों में कितनी आधुनिक विधा साबित हो सकती है। जरुरत सरकार द्वारा और अधिक शोध और जनता को जागरूक करने की है जो वर्षों तक इस बीमारी का विध्वंश झेलती है।     

No comments:

Post a Comment